Bridge Collapses In Bihar : बिहार में फिर गिरा पुल ! अररिया के बाद अब सिवान में गंडक नदी पर बना पुल ढहा.

Bridge Collapses In Bihar : – बिहार में पुल ढहने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बार सिवान में गंडक नहर पर बना 30 फीट लंबा पुल ढह गया। घटना जिले के महाराजगंज अनुमंडल में शनिवार सुबह करीब 5 बजे हुई। यह पुल (Bridge Collapses in Bihar) पटेढ़ा और गरौली गांव के बीच गंडक नहर पर बना है। पुल का एक पिलर ढह गया, जिससे पुल ढह गया।

WHATSAPP 3 1

Bridge Collapses In Bihar  गंडक नदी पर बना पुल गिरा :-

पुल के ढहने पर काफी शोर मचा। पुल टूटकर नहर में गिर गया। पुल के गिरने की आवाज से कुछ देर के लिए लोग सहम गए। हालांकि, इस घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। पुल ढहने का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि कैसे पुल कुछ ही देर में नहर में समा गया।

Read More… Motorola Moto S50 Neo : 25 जून को लॉन्च होगा दुनिया का पहला 4 साल की वारंटी वाला फोन, ये हैं फीचर्स और स्पेसिफिकेशन….

अररिया के सिकटी प्रखंड में एक पुल ढह गया
                                                                  अररिया के सिकटी प्रखंड में एक पुल ढह गया

 

मिट्टी हटाने के कारण पुल ढहा : – 

गरौली गांव के स्थानीय लोगों ने बताया कि हाल ही में प्रशासन ने नहर की सफाई कराई थी। इस दौरान नहर से मिट्टी निकालकर बांध में डाल दी गई थी। इससे पुल कमजोर हो गया और यह हादसा हुआ। इस घटना ने एक बार फिर सरकारी कामकाज पर सवाल खड़े कर दिए हैं। बिहार में इतने पुल क्यों गिर रहे हैं ?

Read More … GST Council : रेलवे प्लेटफॉर्म टिकट सस्ता ! सोलर कुकर, दूध कैन पर 12% TAX, जानें जीएसटी काउंसिल के बड़े ऐलान.

“यह घटना सुबह 5 बजे हुई। इसमें कोई हताहत नहीं हुआ। यह 40 से 45 साल पुराना पुल है। हमने चंदा इकट्ठा करके पुल बनवाया था। स्थानीय रामाशंकर नेता ने भी मदद की थी। हाल ही में नहर की सफाई कराई गई थी। मिट्टी के कटाव के कारण पुल ढह गया है। आवागमन बंद हो गया है। प्रशासन को जल्द व्यवस्था करनी चाहिए।” – मोहम्मद नईमुद्दीन, स्थानीय

लोगों का आवागमन प्रभावित : – 

पुल टूटने के काफी समय बाद भी विभाग का कोई अधिकारी घटना का जायजा लेने नहीं पहुंचा है। पुल टूटने से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। बच्चे स्कूल नहीं जा पाएंगे। यह पुल एक गांव से दूसरे गांव जाने का एकमात्र साधन था।

पुल
                                                                               पुल

 

अररिया में पहले भी गिरा था पुल : –

हाल ही में अररिया के सिकटी प्रखंड में एक पुल ढह गया। बकरा नदी पर परदिया घाट पर बना पुल ढह गया। जानकारी के अनुसार नेपाल में आए तूफान के कारण पुल ढह गया। पुल के तीन पिलर पूरी तरह से नष्ट हो गए। इस पुल को बनाने में कुल 12 करोड़ खर्च हुए थे। पुल के दोनों तरफ एप्रोच पथ का निर्माण होना था लेकिन उससे पहले ही पुल ढह गया।

WhatsApp Follow

 

WhatsApp Follow

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।

अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, ” प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।” पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि “मैं एक डिजिटल पत्रकार हूं।”

Leave a Comment