Private Clinic – जच्चा की मौत पर परिजनों ने निजी क्लिनिक में जमकर किया हंगामा, जुड़वा बच्चे हैं सुरक्षित

Private Clinic – परीजन क्लिनिक के सामने शव रखकर धरना पर बैठे

Private Clinic –  बिहपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत बिहपुर स्थित मां उर्मिला क्लिनिक में शुक्रवार की दोपहर प्रसव के दौरान जच्चा की मौत हो गई। हालांकि प्रसूता को जुड़वां बच्चा बेटा हुआ है और दोनो बेगुसराय में इलाजरत है। वही मौत के बाद मृतका के परिजनों ने मां उर्मिला क्लिनिक में जमकर हंगामा कर दिया। मृतका के घरवाले डॉक्टर पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे थे।शुक्रवार शाम से लेकर शनिवार सुबह 11 बजे तक परीजन क्लिनिक के बाहर शव को रख कर धरना पर डटे रहे। सूचना पर पहुंची पुलिस के डायल 112 की टीम ने काफी मशक्कत के बाद लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन परीजन कुछ सुनने को तैयार नही थे।

Private Clinic
                                                                                                            Private Clinic
Private Clinic – सूचना मिलते हीं बिहपुर थानाध्यक्ष राहुल कुमार ठाकुर, झंडापुर थानाध्यक्ष मनोज कुमार, ख़रीक थानाध्यक्ष नरेश कुमार दलबल के साथ उर्मिला क्लिनिक पहुंचे और आक्रोशित लोगों को शांत करने का प्रयास किया लेकिन मृतका के परीजन शांत नही हो रहे थे।पूरी रात पुलिस टीम क्लिनिक पर मौजूद रही। शनिवार दिन के 11 बजे तक क्लिनिक के सामने मृतका के शव को रखकर सभी धरना पर बैठे रहे।मृतका की पहचान बेगुसराय साहेबपुर कमाल निवासी छोटू यादव की 23 वर्षीय पत्नी प्रियम देवी के रूप में हुई है। मृतका का मायका बिहपुर थाना क्षेत्र के धर्मपुर रत्ती पंचायत के वार्ड संख्या 06 निवासी सागर यादव उनके पिता है।पिता सागर यादव ने बताया कि 30 मई की सुबह वह अपनी पुत्री को प्रसव के लिए बिहपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर गए थे। जहां डॉक्टर ने उसे बेहतर इलाज के लिए मायागंज अस्पताल भागलपुर रेफर कर दिया।
Private Clinic – बताया गया कि बिहपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की आशा सरिता देवी ने प्रसूता को मायागंज नही लेकर गए। आशा सरीता देवी ने परीजन को बहला फुसलाकर यह कहकर बिहपुर के मां उर्मिला क्लिनिक में भर्ती करवा दिया कि मायागंज में लेकर जाएंगे तो हम मरीज और नवजात का रिस्क नही लेंगे।सीएचसी बिहपुर से मिली जानकारी के अनुसार प्रियम देवी को रेफर करने के पहले उसकी सारी स्थिति की जांच में ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ था बांकी सबकुछ सामान्य था। रक्तस्राव भी नही हो रहा था। परीजन ने कहा कि मां उर्मिला क्लिनिक में इस एवज में उनसे एक लाख रूपीए से अधिक फीस व अन्य खर्च लिया गया था। वहीं इस संबंध में मां उर्मिला क्लिनिक के डॉक्टर राजेश कुमार से मोबाइल पर कई बार संपर्क असफल रहा।

Read More… आवारा कुत्ता का आतंक आधा दर्जन जख्मी

Leave a Comment